जब गुजराती युवाओं ने अपना नाम ‘आज़ाद’ रखा seo posting
1
रसिक भाई आज़ाद गांधी के अहिंसा आंदोलन को मानने वाले थे. वडोदरा ज़िले के चोरंडा गांव में वह एक अध्यापक थे. अंबालाल गांधी चोरंडा में रहते थे और वह स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में सक्रिय थे. अंबालाल गांधी और रसिक भाई आज़ाद एक ही विचारधारा को मानते थे.